Pages

14 मार्च 2012

मन के जीते जीत है मन के हारे हार ..

एक चूहा था। उसे बिल्ली से बड़ा डर लगता था। हालांकि यह स्वाभाविक है कि चूहे को बिल्ली से डर लगे, पर इस चूहे को कुछ ज्यादा ही डर लगता था। अपने सुरक्षित बिल में सोते हुए भी सपने में उसे बिल्ली नजर आती। हल्की-सी आहट से उसे बिल्ली के आने का अंदेशा होने लगता। सीधी-सी बात यह कि बिल्ली से भयभीत चूहा चौबीसों घंटे घुट-घुटकर जीता था।


ऐसे में एक दिन एक बड़े जादूगर से उसकी मुलाक़ात हो गई। फिर तो चूहे के भाग ही खुल गए। जादूगर को उस पर दया आ गई, तो उसने उसे चूहे से बिल्ली बना दिया। बिल्ली बना चूहा उस समय तो बड़ा ख़ुश हुआ, पर कुछ दिनों बाद फिर जादूगर के पास पहुंच गया, यह शिकायत लेकर कि कुत्ता उसे बहुत परेशान करता है।


जादूगर ने उसे कुत्ता बना दिया। कुछ दिन तो ठीक रहा, फिर कुत्ते के रूप में भी उसे परेशानी शुरू हो गई। अब उसे शेर-चीतों का बड़ा डर रहता। इस दफ़ा  जादूगर ने सोचा कि पूरा इलाज कर दिया जाए, सो उसने कुत्ते का रूप पा चुके चूहे को शेर ही बना दिया। जादूगर ने साचा कि शेर जंगल का राजा है, सबसे शक्तिशाली प्राणी है, इसलिए उसे किसी से डर नहीं लगेगा।


लेकिन नहीं। शेर बनकर भी चूहा कांपता ही रहा। अब उसे किसी और जंगली जीव से डरने की जरूरत नहीं थी, पर बेचारे को शिकारियों से बड़ा डर लगता। आख़िर वह एक बार फिर जादूगर के पास पहुंच गया। लेकिन इस बार जादूगर ने उसे शिकारी नहीं बनाया। उसने उसे चूहा ही बना दिया। जादूगर ने कहा- चूंकि तेरा दिल ही चूहे का है, इसलिए तू हमेशा डरेगा ही।


सबक : डर कहीं बाहर नहीं होता, वह हमारे भीतर ही होता है। स्वार्थ की अधिकता और आत्म-विश्वास की कमी से हम डरते हैं। इसलिए अपने डर को जीतना है, तो पहले ख़ुद को जीतना पड़ेगा।

13 टिप्‍पणियां:

  1. मै आपका फालोवर बन गया हूँ,आप भी बने,मुझे खुशी होगी,...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया लिखा है..अच्छी लगी ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक ... सही कहानी है जो कुछ भी मन के अंदर ही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. काश! जादूगर चूहे का दिल बदल पाता.
    पर दिल बिचारा क्या करे.डर तो दिमाग में होता है जी.
    डर का विचार आते ही दिल काँपने लगता है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही प्रेरक कहानी दी है आपने वास्तव में यह बात बिलकुल सच है मन ही मनुष्य की शक्ति का सञ्चालन करता है यदि किसी व्यक्ति को मन में किसी विषय में संदेह हो तो वह कभी उसमे आगे नहीं बढ़ सकता है
    जीवनसूत्र

    उत्तर देंहटाएं

Thanks for Comment !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...